7th Pay commission 2022 : केंद्रीय कर्मचारियों की लगी लॉटरी ! आख़िर DA बढ़ने से Pay Matrix में क्या आया चेंज ?

7th Pay commission 2022 :- केंद्रीय कर्मचारियों और पेंशनर्स के लिए बहुत बड़ी खबर है। केंद्र सरकार में महंगाई भत्ते में 4 फीसदी की बढ़ोतरी को हरी झंडी दे दी है। चुकीं केंद्रीय कर्मचारियों की सैलरी पे-मैट्रिक्स, फिटमेंट फैक्टर, महंगाई भत्ता, HRA और ट्रैवल अलाउंस को जोड़कर बनती है. अपने पे-ग्रेड के हिसाब से कोई भी कर्मचारी नया महंगाई भत्ता जोड़कर सैलरी कैलकुलेट कर सकता है. आईए जानें पूरी खबर विस्तार में…..!

7th Pay commission 2022

7th CPC Salary Matrix :- केंद्रीय कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में बढ़ोतरी ऑलरेडी हो चुकी है ऐसे में उनके सैलेरी स्ट्रक्चर में बदलाव होना लाजमी है। अब देखा जाए तो महंगाई भत्ता बढ़ने के साथ कुल ग्रॉस सैलरी में भी अंतर आता है, साथ ही सातवां वेतन आयोग हर विभाग के हिसाब से पे मैट्रिक्स में बदलाव करता रहता है. 1 जनवरी 2016 में सातवां वेतन आयोग लागू करने के बाद ग्रॉस सैलेरी करीब 10 से 14 परसेंट बढ़ गई थी हालांकि इसके बाद केंद्र की मोदी सरकार ने दिए को बीच में जोड़ना शुरु कर दिया जिससे सैलरी में और अंतर देखने को मिला और अपने पेमेट्रिक्स के हिसाब से कोई भी कर्मचारी अपने सैलरी का हिसाब किताब रखने में सक्षम हुआ।7th pay commission: अब CGHS के तहत निजी अस्पतालों में सातवें वेतन आयोग के हिसाब से वार्डों का आवंटन.

आख़िर 7वें वेतन आयोग में क्या हैं ख़ास ?

छठे वेतनमान में एंट्री लेवल पर बेसिक पे (Basic Salary) 7000 रुपए (पे बैंड 5200+ग्रेड पे 1800) थी. वहीं DA 125% प्रतिशत मिलता था, मतलब बेसिक से ज्‍यादा DA बनता था. बाकी भत्‍ते और कटौती मिलाकर कर्मचारी के हाथ में 14,757 रुपए महीना आता था. लेकिन, 7वां वेतनमान लागू होने के बाद मंथली ग्रॉस-पे में बड़ा इजाफा किया गया. DA को शून्य करके फिर से रिवाइज किया गया. मौजूदा समय में कर्मचारियों को 38% महंगाई भत्ता मिल रहा है, जिसे जुलाई 2022 से लागू किया गया है.7th CPC Today News : पैसा ही पैसा ! साल 2023 में कर्मचारियों की लगेगी लॉटरी, पढ़िए खबर !

पे-कमीशन बदलने पर कितनी बदली सैलरी?

6th Pay Commission      7th Pay Commission

फिटमेंट फैक्टर से जुड़ा पे-मेट्रिक्‍स

पे-मैट्रिक्‍स (Pay Matrix) के आधार पर सैलरी बनती है. नए वेतनमान में पे-मैट्रिक्‍स को फिटमेंट फैक्‍टर (fitment factor) से जोड़ा गया था. शुरुआती लेवल के कर्मचारी को 2.57 गुना फिटमेंट फैक्‍टर के आधार पर सैलरी बनती है. मतलब पे मेट्रिक्‍स में लेवल 1 पर बेसिक 18 हजार रुपए प्रति माह है. वहीं, लेवल 18 पर यह 2.5 लाख रुपए प्रति माह है. यह व्‍यवस्‍था 1 जनवरी 2016 से लागू है.7th Pay Commission: सरकार का फिटमेंट फैक्टर में नया अपडेट, कर्मचारियों की सैलरी में होगा 49,000 तक का इजाफा

Note :- लेवल-3 के सैलरी स्ट्रक्चर के तहत कर्मचारी को उसके बेसिक मूल वेतन 21,700 रुपए है तो आइए जानते हैं कि उस कर्मचारी की कुल सैलरी कितनी होगी?

Conclusion :- उम्मीद करते दोस्तों क्या आपको आज काट कल पसंद आया होगा ऐसे ही ट्रेंडिंग आर्टिकल के लिए हमारे ब्लॉग को लगातार पढ़ते रहें और अपने सुझाव हमें कमेंट करके बताएं !