Agneepath Scheme : आखिर 4 साल के बाद क्या होगा अग्निवीरों का भविष्य, क्या मिल पाएगी परमानेंट नौकरी

Agneepath Scheme : केंद्र सरकार (Central Government) ने देश के युवाओं के लिए अग्निपथ योजना (Agneepath Scheme) की शुरूआत की है। इस योजना के माध्यम से युवाओं को 4 साल तक भारतीय सेना (Indian Army) में नौकरी करने का अवसर प्रदान किया जाएगा। लेकिन ऐसा देखा जा रहा है कि सरकार की इस योजना को लेकर युवाओं में घमासान मचा हुआ है।

अग्निपथ योजना का विरोध कर रहे हैं युवा

देश में अग्निपथ योजना के विरोध में जगह-जगह युवाओं के द्वारा विरोध प्रदर्शन तथा तोड़ फोड़ किया जा रहा है। युवाओं का कहना है कि सरकार युवाओं के भविष्य से खिलवाड़ कर रही है। युवाओं के द्वारा बताया गया कि हम लोग इतनी कड़ी मेहनत करके महज 4 वर्ष की नौकरी क्यों करेंगे। आखिर 4 वर्ष की नौकरी करने के बाद हमारे भविष्य का क्या होगा।

Agneepath Scheme

युवाओं ने नाराजगी दिखाते हुए ये भी कहा कि हम 4 वर्षों तक तमाम कठिनाइयों को झेलते हुए आर्मी में भर्ती होने के लिए तैयारी करते हैं लेकिन 4 साल की कड़ी मेहनत के बाद सिर्फ 4 वर्षों की नौकरी लेकर हम क्या करेंगे। उन्होंने कहा कि सरकार कह रही है कि 4 वर्षों के बाद जब युवाओं को सेना की नौकरी से बाहर किया जाएगा तो उनके लिए रोजगार के कई नए विकल्प भी उपलब्ध रहेंगे। लेकिन भविष्य में ये लोग क्या करेंगे इसकी कोई गारंटी नहीं है।

रक्षा मंत्रालय ने किया योजना का शुभारंभ

दरअसल रक्षा मंत्रालय ने युवाओं के लिए अग्निपथ योजना का शुभारंभ किया है। जिसमें देश के युवा 4 वर्षों के लिए भारतीय सेना में शामिल होकर देश की सेवा कर सकेंगे। इसके बाद उनको नौकरी से कार्यमुक्त कर दिया जाएगा। इसी को लेकर युवाओं में अधिक नाराजगी बनी हुई है। जगह-जगह तोड़फोड़ तथा उग्र प्रदर्शन के कारण यातायात भी काफी प्रभावित हो गया है।

उत्तर प्रदेश, बिहार, हिमाचल प्रदेश तथा हरियाणा आदि राज्यों में छात्रों के द्वारा उग्र विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है। छात्रों का कहना है कि उनको ये 4 साल वाली नौकरी नहीं चाहिए। इससे तो कहीं ज्यादा समय तैयारी करने में लग जाता है। युवाओं का ये भी कहना है कि यदि एक बार ये योजना लागू हो गई तो नियमित भर्तियां नहीं की जाएंगी। ये एक बहुत बड़ी समस्या का रूप ले लेगी।

4 साल बाद क्या होगा युवाओं का भविष्य

उन्होंने कहा कि हम परमानेंट नौकरी पाने के लिए दिन-रात कड़ी मेहनत करते हैं ये 4 वर्षों का लॉलीपॉप दिखाकर सरकार युवाओं के भविष्य से खिलवाड़ कर रही है। बताते चलें कि कई ऐसे युवा हैं जिनको इस योजना के विषय में पूरी तरह से जानकारी नहीं है। उनको ये भी नहीं पता है कि सैलरी किस तरह से दी जाएगी। सबसे बड़ा सवाल ये है कि वाकई 4 वर्ष की नौकरी करने के बाद युवाओं के भविष्य का आखिर क्या होगा?

बता दें कि युवाओं की समस्या यही है कि 4 साल के लिए नौकरी तो मिल जाएगी लेकिन नौकरी समाप्त होने के बाद उन्हें न तो पेंशन मिलेगी और न तो किसी प्रकार का राहत प्रदान किया जाएगा। ऐसे में क्या सचमुच युवा इतनी कड़ी मेहनत के बाद भी बेरोजगार हो जाएंगे? फिर ऐसी नौकरी का क्या लाभ। हांलाकि 10वीं पास कर चुके जो छात्र अग्निवीर के रूप में बहाल हो जाएंगे उनको रिटायर होने पर 12वीं पास के समकक्ष सर्टिफिकेट दिया जाएगा।

जिसको लेकर NIOS तथा एजुकेशन मिनिस्ट्री के द्वारा प्रोग्राम तैयार किया जा रहा है। इसका सीधा मतलब ये हुआ कि उनको 12वीं की परीक्षा देने की जरूरत नहीं पड़ेगी। जो भी युवा आगे की पढ़ाई करना चाहेंगे वो इस सर्टिफिकेट के आधार पर एडमिशन ले सकेंगे। इसके अलावा कुछ ब्रिजिंग कोर्स भी उपलब्ध करवाए जाएंगे। जो युवा कोई उद्यम करने के इच्छुक होंगे उनको सरकार के द्वारा वित्तीय पैकेज तथा बैंक ऋण योजना का लाभ देते हुए फंड उपलब्ध करवाया जाएगा।

अग्निवीर के रूप में बहाल हुए युवाओं को CAPF तथा राज्य पुलिस में प्राथमिकता प्रदान की जाएगी। वहीं 25 फीसदी युवाओं को सेना में स्थायी नियुक्ति दी जाएगी। युवाओं को पहले साल 30000 रूपए, दूसरे साल 33000 रूपए, तीसरे साल 36500 तथा चौथे साल 40000 रूपए सैलरी के तौर दिए जाएंगे।

Leave a Comment