Bank New Rule 2022:- बड़ी ख़बर ! SBI के अलावा इन प्राइवेट बैंकों में हो रहा बड़ा बदलाव,जान लें डिटेल

Bank New Rule 2022:- अब देखा जाए तो केंद्र सरकार आए दिन अपने नागरिकों की समस्याओं का निवारण करने के लिए हमेशा तैयार खड़ी रहती हैं. इसी कड़ी में सरकार ने निजी क्षेत्रों के बैंकों में कुछ बदलाव कर दिए हैं. इसमें एचडीएफसी (HDFC),आईसीआईसीआई(ICICI),और एक्सिस(AXIS) बैंक को लेकर कुछ बातें सामने आई हैं. आईए ख़बर को विस्तार से जानें…!

Bank New Rule 2022

Bank New Rule 2022
Bank New Rule 2022

New Policy Latest Update:- दरअसल केंद्र की मोदी सरकार ने स्टेट बैंक ऑफ इंडिया(SBI) को छोड़कर अन्य निजी बैंकों के लिए महतवपूर्ण फैसले लिए हैं,जो निश्चित रूप में ग्राहकों के लिए फायदेमंद साबित हो सकते है.बता दें कि वित्त मंत्रालय द्वारा तीन निजी क्षेत्र के बैंकों एचडीएफसी, आईसीआईसीआई और एक्सिस बैंक के लिए विदेशी खरीद पर वित्त सेवाएं प्रदान करने की अनुमति दी है.

Also Read-Bank Holidays in September 2022: सितंबर में 13 दिन बंद रहेंगे बैंक, चेक कर लें पूरी लिस्ट,नहीं तो अटक सकते है काम…!

चुकी ये बात भी जानना चाहिए कि इससे पहले यह सभी सेवाएं सिर्फ सरकारी बैंकों के लिए उपलब्ध थी.लेकिन अब नए फैसले के बाद सरकार ने निजी बैंकों (Private Bank) को भी इसका अधिकार दे दिया है.

मिनिस्ट्री ऑफ डिफेंस(MoD) ने दिया यह स्टेटमेंट

रक्षा मंत्रालय द्वारा विदेशी खरीद के लिए लेटर ऑफ क्रेडिट और डायरेक्ट बैंक ट्रांसफर बिजनेस प्रदान करने की अनुमति दी गईं है.सरकार की तरफ से जारी बयान के मुताबिक़ इन बैंकों पर 1 साल के लिए 2000 करोड रुपए की पूंजी दी जा सकती है.बता दें ऐसा पहली बार हुआ है.

जब सरकार ने तीनों बैंको को एक साथ विदेशी खरीद पर वित्तीय सेवाएं प्रदान करने की अनुमति दी है. रक्षा मंत्रालय के अनुसार इन बैंकों के नियमित रूप से निगरानी की जाएगी ताकि जरूरत के हिसाब से आगे की कार्रवाई की जा सके.

Also Read-SBI offer :SBI का ऑफर मचा रहा तहलका, आप भी घर बैठे कमाएं 80,000 रुपये महीना, जानिए आसान तरीका

पहली बार प्राइवेट बैंकों को मिली इसकी अनुमति

रक्षा मंत्रालय ने इसकी घोषणा करते हुए कहा कि, ‘कुछ बैंकों को 2,000 करोड़ के LC(Letter of Credit) कारोबार की मंजूरी दी जा सकती है. इसमें प्रत्येक बैंक एक साल के लिए पूंजी और राजस्व दोनों ही मोर्चों पर 666 करोड़ रुपये आवंटित कर सकता है.”मंत्रालय ने कहा कि इन बैंकों के प्रदर्शन की नियमित रूप से निगरानी की जाएगी, ताकि आगे के कदम उठाए जा सकें”.

इस संबंध में MoD की ओर से PCDA, द्वारा हाल ही में इन तीनों बैंकों के साथ MoU (memorandum of understanding) पर हस्ताक्षर किए गए हैं.इसके साथ ही अब पहली बार तीन निजी बैंकों को भी रक्षा मंत्रालय द्वारा विदेशी खरीद के लिए वित्तीय सेवाएं प्रदान करने की अनुमति दी गई है.

Also Read-SBI Kisan Credit Card 2022:बिना गारंटी के मिलेगा 3.5 लाख तक का लोन, जल्दी लोन के साथ मिलेंगे कई और फायदे

आईए जानें क्या हैं वित्तीय सेवाएँ का अर्थ

Financial Services kya hai:- वित्तीय सेवाओं का अर्थ वित्त उद्योग द्वारा प्रदान की जाने वाली आर्थिक सेवाएं है, जिसमें क्रेडिट यूनियनों, बैंकों, क्रेडिट कार्ड कंपनियों, बीमा कंपनियों, एकाउंटेंसी कंपनियों, उपभोक्ता-वित्त कंपनियों, स्टॉक ब्रोकरेज, निवेश सहित धन का प्रबंधन करने वाले व्यवसायों की एक विस्तृत श्रृंखला शामिल है.

Also Read-SBI OFFER: एसबीआई की स्कीम मचा रही तहलका, तुरंत कमाएं 7 लाख रुपये से ज्यादा, जानिए जरूरी शर्तें