Board Exam : बोर्ड परीक्षा में शामिल छात्रों के लिए संचालित होगी ऑफलाइन कक्षा, गाइडलाइन जारी

Board Exam : देश भर में कोरोना के कहर से जहां एक तरफ व्यापार पर बुरा असर देखने को मिला तो वहीं छात्रों की पढ़ाई पर भी इसका बहुत ज्यादा प्रभाव पड़ा। नतीजा ये हुआ कि छात्रों के लिए ऑनलाइन पाठ्यक्रम की व्यवस्था कर दी गई। अब लगभग सभी स्कूलों को पुन: खोल दिया गया है। वहीं बोर्ड परीक्षा (Board Exam) में भाग लेने वाले छात्रों के लिए ऑफलाइन कक्षा संचालित करने का प्रावधान किया गया है।

ऑनलाइन कक्षाओं पर लगेगी रोक

बताते चलें कि बोर्ड की परीक्षा को देखते हुए छात्रों के लिए अब ऑनलाइन कक्षाएं नहीं संचालित की जाएंगी। उनके लिए अब ऑफलाइन कक्षा संचालित करने का प्रावधान बनाया गया है। दिल्ली में भी एक आदेश जारी कर दिया गया है जिसके अनुसार बोर्ड परीक्षा में भाग ले रहे छात्रों को ऑनलाइन कक्षा का ऑप्शन नहीं दिया जाएगा। वहीं बताया जा रहा है कि छोटे क्लास के छात्रों के लिए भी सिर्फ 31 मार्च तक ही ऑनलाइन कक्षा संचालित की जाएगी।

1 अप्रैल से सभी कक्षाएं ऑफलाइन मोड पर

वहीं अब आगामी 1 अप्रैल से लगभग सभी कक्षाएं ऑफलाइन मोड पर ही आयोजित की जाएंगी। हांलाकि इस मामले में दिल्ली सबसे आगे दिखाई दे रही है। दिल्ली के सभी कॉलेजों को खोल दिया गया है और कक्षाएं भी ऑफलाइन संचालित की जा रही हैं। मिली जानकारी के मुताबिक दिल्ली यूनिवर्सिटी के बाद जामिया मिलिया इस्लामिया में भी ऑफलाइन कक्षाओं का संचालन शुरू कर दिया गया है।

जामिया के कुलपति ने जारी किए निर्देश

बता दें कि जामिया की कुलपति प्रोफेसर नजमा अख्तर ने भी शिक्षकों को यूनिवर्सिटी में आने के लिए सख्त निर्देश जारी कर दिए हैं। वहीं आदेश में ये भी कहा गया है कि कॉलेज में ऑफलाइन मोड पर पढ़ाई करने के लिए आने वाले छात्रों को कोरोना की जांच रिपोर्ट दिखानी होगी। तभी उनको कॉलेज में प्रवेश मिल पाएगा। वहीं केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय (Education Ministry) की तरफ से भी स्कूलों को पुन: खोलने के लिए हरी झंडी दिखा दी गई है।

केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने दिए निर्देश

हांलाकि कक्षाओं का संचालन ऑफलाइन मोड पर करने के लिए कुछ आवश्यक नियम भी बनाए गए हैं। सीधे-सीधे कहें तो कोरोना गाइडलाइन का विशेष ध्यान रखा जाएगा। जैसे कक्षा में छात्रों के बीच की दूरी 6 फीट होगी। छात्र तथा शिक्षकों के साथ-साथ विद्यालय के जो भी कर्मचारी होंगे उनको पूरे समय फेस मास्क लगाए रखना होगा। वहीं स्कूल परिसर में इस प्रकार का कोई कार्यक्रम आयोजित नहीं किया जाएगा जिसमें छात्रों या विद्यालय के किसी भी स्टाफ से सोशल डिस्टेंस का पालन करवाने में समस्या उत्पन्न होगी।

ठीक यही कार्य मिड डे मिल के भोजन को वितरित करते समय भी ध्यान में रखना होगा। विद्यालय में सोशल डिस्टेंस का पालन करना बेहद अनिवार्य रहेगा। वहीं विद्यालय परिसर के विभिन्न स्थानों पर साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखना होगा। विद्यालय में बच्चों को एक स्थान पर भीड़ लगाकर खड़े होने से मना करना होगा। वहीं जब कॉलेज खोल दिए जाएंगे तो जाहिर सी बात है कि हॉस्टल को भी खोलना होगा।

सोशल डिस्टेंस का रखना होगा ध्यान

तो इसके लिए भी केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय (Education Ministry) की तरफ से निर्देश जारी करते हुए कहा गया है कि हॉस्टल में भी छात्रों को सोशल डिस्टेंस का ध्यान रखना होगा। वहीं जिन बसों के माध्यम से छात्र स्कूल या कॉलेज में जाएंगे उन बसों को सेनिटाइज किया जाएगा। मंत्रालय ने कहा है कि हॉस्टल में छात्रों के सोने के लिए भी नए सिरे से व्यवस्था करनी होगी।

इस प्रकार से यह स्पष्ट हो गया है कि अब छात्रों के लिए एक बार फिर पहले की तरह ऑफलाइन कक्षाओं का संचालन शुरू कर दिया गया है। जो स्कूल अभी तक कोरोना के कारण बंद पड़े हैं उनको भी जल्द खोला जाएगा। इसके लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण बात ये है कि विद्यालय में साफ-सफाई से लेकर सोशल डिस्टेंस तक का बखूबी ध्यान रखना होगा। क्योंकि कोरोना का प्रकोप कम हुआ है अभी खत्म नहीं हुआ है।

Leave a Comment