Corona Guidelines in UP : यूपी में सभी स्कूल 14 जनवरी तक बंद, नाइट कर्फ्यू का बढ़ा समय

Corona Guidelines in UP : यूपी में कोरोना के मामलों (Corona Case) में दिन पर दिन बढ़त देखने को मिल रही है इसके साथ यूपी में कोरोना के मामले (UP Corona Case) 3,000 पार जाने के साथ राज्य सरकार ने 6 जनवरी से 14 जनवरी तक कक्षा 10वीं तक के सभी स्कूलों को बंद (School Close) कर दिया है। कोई भी जिला जहां कोविड मामलों की संख्या 1,000 के पार करती है वहां प्रतिबंधों को और बढ़ा दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री योगी ने दिए यह निर्देश

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने टीम-9 के साथ समीक्षा बैठक की और कहा कि 6 जनवरी से रात्रि कर्फ्यू का समय भी दो घंटे बढ़ा दिया जाएगा। अब यह रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक रहेगा। यूपी में मंगलवार को 23 व्यक्तियों में अत्यधिक ओमिक्रॉन वेरियंट की पुष्टि की गई जिससे राज्य में प्रभावित लोगों की कुल संख्या 31 हो गई। इन रोगियों के संपर्क में आने वाले सभी लोगों का पता लगाया जा रहा है और उनका परीक्षण किया जा रहा है।

West Bengal School Closed : पश्चिम बंगाल में स्कूल हो रहे बंद, जानें किन चीजों पर लगी रोक

10वीं तक के स्कूल 14 जनवरी तक रहेंगे बंद

10वीं कक्षा तक सभी सरकारी और निजी स्कूल 14 जनवरी तक बंद रहेंगे। फिलहाल ऐसा कोई जिला नहीं है जहां एक्टिव केस एक हजार से ज्यादा हों लेकिन ऐसा होते ही जिम, स्पा, सिनेमा हॉल, बैंक्वेट हॉल, रेस्टोरेंट और अन्य पब्लिक स्थानों को केवल 50% क्षमता पर संचालित किया जा सकता है।

शादियों में 100 से अधिक लोगों को अनुमति नहीं दी जाएगी

6 जनवरी से शादियों सहित किसी भी कार्यक्रम में 100 से अधिक लोगों को अनुमति नहीं दी जाएगी। यदि वे एक बंद हॉल या कमरे में आयोजित किए जाते हैं। खुले स्थानों पर भूमि की क्षमता के 50 प्रतिशत से अधिक की अनुमति नहीं होगी। मास्क व सेनेटाइजर का प्रयोग अनिवार्य कर दिया गया है।

कोविड हेल्प डेस्क स्थापित किए जाने की अनुमति

सभी सरकारी, अर्ध-सरकारी और निजी संस्थानों, ट्रस्टों, कंपनियों, ऐतिहासिक स्मारकों, कार्यालयों, धार्मिक स्थलों, होटलों, रेस्तरां और औद्योगिक इकाइयों में तुरंत कोविड हेल्प डेस्क स्थापित किए जाएं। जहां आवश्यक हो, डे केयर सेंटर स्थापित किए जाने चाहिए और किसी को भी पहले स्क्रीनिंग किए बिना किसी भी परिसर में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए।

गांव के लिए राज्य सरकार ने लिए यह सख्त नियम

राज्य सरकार सभी निगरानी समितियों और एकीकृत कमान और नियंत्रण केंद्रों (आईसीसीसी) को भी सक्रिय करेगी। निगरानी समितियां ग्रामीण क्षेत्रों में ग्राम प्रधानों के अधीन तथा नगरीय क्षेत्रों में नगर पार्षद के अधीन कार्य करेंगी। उन्हें घर-घर जाकर उन लोगों की पहचान करने की आवश्यकता होगी जिनका टीकाकरण किया जाना है या जिनका दूसरा टीकाकरण होना है। जहां जरूरत होगी वे दवा किट भी बांटेंगे।

रोजाना कम से कम 3 – 4 लाख टेस्ट करने की अनुमति

सीएम ने कहा है कि राज्य में रोजाना कम से कम 3-4 लाख टेस्ट किए जाएं। पिछले कुछ दिनों में 1.5-1.7 लाख परीक्षण हुए हैं क्योंकि मामलों की संख्या में वृद्धि दिखाई देने लगी है। उन्होंने यह भी कहा है कि इस बार कोविड-19 परीक्षण करने के लिए अधिकृत होने से पहले निजी परीक्षण प्रयोगशालाओं के पिछले रिकॉर्ड की जाँच की जानी चाहिए। नोडल अधिकारी नियुक्त किए जा रहे हैं जो अपने जिलों में जांच करेंगे।

माघ मेले में सभी व्यक्तियों का आरटी पीसीआर टेस्ट होगा

सीएम ने कहा है कि सभी आईसीसीसी को चौबीसों घंटे सक्रिय रखा जाए और उनकी संख्या का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाए। इनकी नियमित रूप से निगरानी की जानी चाहिए। सभी आईसीसीसी में विशेषज्ञों का एक पैनल उपलब्ध होना चाहिए। इस महीने के अंत में प्रयागराज में माघ मेले में आने वाले किसी भी व्यक्ति के लिए 48 घंटे के नकारात्मक आरटी पीसीआर परीक्षण की आवश्यकता होगी।

Leave a Comment