EPFO SSA Benefits 2023 : छटनी के बीच विदेश में काम कर रहे भारतीय जान ले,ईपीएफओ एसएसए को मिलने जा रहे हैं,ये फायदे !

EPFO SSA Benefits 2023 :- क्या आप भारत छोड़कर लंबे अरसे से विदेश में जॉब कर रहे हैं। साथ ही आप कर्मचारी भविष्य निधि संगठन से भी जुड़े हुए हैं, तब तो आपको कंपनियों में चल रही छटनी की खबर के बारे में ऑलरेडी पता होगा.चुकीं कर्मचारी भविष्य निधि संगठन यानी ईपीएफओ 19 देशों के साथ एक सामाजिक सुरक्षा समझौता है.जिसमें बेल्जियम,जर्मनी,स्वीटजरलैंड,डेनमार्क,फ्रांस,लक्ज़मबर्ग और दक्षिण कोरिया इत्यादि जैसे देश शामिल है.ऐसी में आज की खबर में क्या है खास,समूची बात को समझने के लिए पढ़िए पूरी खबर !

EPFO SSA Benefits 2023

EPFO SSA Benefits 2023
EPFO SSA Benefits 2023

देखा जाए तो पूरी दुनिया में करोड़ों भारतीय विदेशों में काम कर रहे हैं, जिस तरह से दुनिया भर में छटनी का माहौल है उसके शिकार भारतीय भी हो रहे हैं.ऐसे में ईपीएफओ का फ्रेश ट्वीट कई बातों की ओर इशारा कर रहा है.13 दिसंबर यानी मंगलवार को सुबह 9:00 बजे ईपीएफओ की ओर से अंतरराष्ट्रीय श्रमिकों के लिए सामाजिक सुरक्षा समझौते के अंतर्गत आने वाले प्रावधानों के बारे में अपने अधिकारी टि्वटर हैंडल पर इस बारे में ट्वीट भी किया है।EPFO: विदेश में काम कर रहे हैं तो पहले जान लें ईपीएफ की ये बड़ी सुविधा, इसमें मिल रही सामाजिक सुरक्षा।

ईपीएफओ ने ट्वीटर पर दी समूची जानकारी !

दरअसल ईपीएफओ ने सोशल साइट ट्विटर पर ट्वीट करते हुए कई बातों की ओर इशारा कर रहा है, ईपीएफओ की ओर से 13 दिसंबर यानी मंगलवार सुबह 9 बजे अंतरराष्ट्रीय श्रम श्रमिकों के लिए सामाजिक सुरक्षा समझौते यानी एसएससी के अंतर्गत आने वाले प्रावधानों के बारे में अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर जानकारी दी है, इसमें समझौते फायदों के बारे में बताया जा रहा है, जिससे विदेश में काम करने वाले भारतीय इसका फायदा जल्द से जल्द उठा सकें।EPFO News 81k : ईपीएफओ सब्सक्राइबर्स के खाते में होंगी धन की बारिश ! जल्द धमकेंगे 81000, पढ़िए खबर !

आइए जाने क्या है समझौता का प्रावधान ?

बता दे कि ईपीएफओ ने 19 देशों के साथ मिलकर एक सामाजिक सुरक्षा समझौते पर हस्ताक्षर किया है, इसमें बेल्जियम, स्वीटजरलैंड, जर्मनी, स्विट्जरलैंड, डेनमार्क, फ्रांस, लक्ज़मबर्ग, दक्षिण कोरिया जैसे देश शामिल है, क्योंकि यह समस्त सामाजिक सुरक्षा भारत और दूसरे देशों के बीच द्विपक्षीय समझौता है, जो देश में तैनात श्रमिकों के सामाजिक सुरक्षा कवरेज की निरंतरता सुनिश्चित करता है,

बताते चलें कि ऐसे दो देशों के बीच एक ऐसा समझौता होता है, जो सीमा 5 श्रमिकों के हितों की सुरक्षा को प्रदान करता है, साथ ही साथ यह समझौता सुनिश्चित करता है, कि मेजबान देश और स्वदेश दोनों के श्रमिकों को सामाजिक सुरक्षा के मामले में समान ही माना जाए।EPFO Claim: PF खाताधारकों की बल्ले-बल्ले! ईपीएफओ ने जल्‍द पैसा दिलाने के लिए बनाया बड़ा नियम !

ये रहा समझौता से संबंधित प्रावधान !

  • SSA में देश से मेजबान देश के श्रमिकों के साथ आए डब्लू के लिए स्वास्थ उपचार की समानता मिलेगी !
  • ऐसे देश में काम करने के लिए प्रतिनियुक्त अंतरराष्ट्रीय कर्मचारी जिनके अपने देश के साथ सामाजिक सुरक्षा पर एक समझौता है उन्हें मेजबान देश में सामाजिक सुरक्षा प्रणाली में योगदान करने की आवश्यकता नहीं होगी।
  • इसमें अंतरराष्ट्रीय कर्मचारी के लिए स्वदेश के क्षेत्र में रहने का विकल्प चुनने वाले लाभार्थी के साथ-साथ किसी तीसरे देश में रहने का विकल्प चुनने वाले लाभार्थी के लिए बिना किसी कटौती के सीधे पेंशन लाभ के भुगतान का प्रावधान होगा।
  • पेंशन के लिए पात्रता निर्धारित करने के लिए ऐसे से देश में प्रदान की गई सेवा को भारत में प्रदान की गई सेवा से जोड़ा जाता है।EPFO Interest Credit Update 2023 : आखिर कब आएगा पीएफ अकाउंट होल्डर्स के खाते में ब्याज का पैसा ? ये रहीं तारीख़……!

Conclusion :- उम्मीद करते हैं दोस्तों आपको आज का आर्टिकल बेहद पसंद आया होगा, ऐसे ही फाइनेंस से संबंधित ट्रेनिंग आर्टिकल्स के लिए हमारे वेबसाइट पर लगातार विजिट करते रहे,और अपने प्यारे प्रश्न हमें कमेंट करना ना भूलें.धन्यवाद !