Gratuity New Rules: प्राइवेट कर्मचारियों के लिए बड़ी खुशखबरी, ग्रेच्युटी के नियमों में बदलाव, कब मिलेंगे ₹75000

Gratuity New Rules: केंद्र सरकार जल्द ही कर्मचारियों के लिए नहीं लेबर कोर्ट लागू करने वाली है। इसको लेकर कुछ ही समय पहले राज्य मंत्री द्वारा लोकसभा में भी जानकारी प्रदान की गई थी। अब लागू होने वाले इन नए लेबर कोर्ट के बाद कर्मचारियों की सैलरी छुट्टी प्रोविडेंट फंड और ग्रेच्युटी में भी बदलाव होंगे। सरकार द्वारा इसमें ग्रेच्युटी को लेकर कुछ नए नियम बनाए गए हैं। जिसमें कोई भी कर्मचारी किसी संस्था में 5 साल लगातार नौकरी करने के लिए बाध्य नहीं होगा। अभी इसका कोई औपचारिक ऐलान नहीं हुआ है। लेकिन जल्द ही ऐलान होने की संभावना है।

Gratuity New Rules

Gratuity New Rules : कर्मचारियों को अब 1 वर्ष तक नौकरी करने पर दी जाएगी ग्रेच्युटी, आपको मिलेगा 75000 रूपए का लाभ

जानिए कितनी मिलेगी ग्रेजुएटी (Gratuity Calculation)

Gratuity Calculation Update: सरकार द्वारा ग्रेच्युटी के पुराने नियमों को बदलकर नए नियम लाया गए हैं। पिछले नियमानुसार किसी भी संस्था में कर्मचारियों को कम से कम 5 साल की नौकरी पूरी करने के बाद ही ग्रेच्युटी का फायदा मिलता था। वही ग्रेच्युटी का कैलकुलेशन 5 साल की नौकरी के बाद नौकरी छोड़ने वाले दिन जितनी आपकी सैलरी होगी। उस आधार पर किया जाता था। अब इन पुराने नियमों में बदलाव किया गया है। और नए नियम लाए गए हैं जिनकी घोषणा जल्द ही सरकार द्वारा की जा सकती है।

Pm kisan Yojana:12वीं किस्त पर आया ये अपडेट, सरकार ने कहा इस दिन खाते में आएगा पैसा !

सोशल सिक्योरिटी बिल (Social Security bill)

Gov Bill Update: भारत सरकार के सोशल सिक्योरिटी बिल 2020 में ग्रेच्युटी से जुड़े नियमों के बारे में स्पष्ट लिखा गया है। इसमें बताया गया है। कि किसी भी कर्मचारी को वेतन पेंशन ग्रेच्युटी और भविष्य निधि आदि सुविधाओं का लाभ इसी बिल के नियमों के आधार पर दिया जाता है। साफ शब्दों में कहें। तो ग्रेच्युटी किसी भी कंपनी में काम करने वाले कर्मचारियों को वहां काम करने का बोनस के रूप में दिया जाता है जब वह वहां से नौकरी छोड़ते हैं।

Post Office Scheme: पोस्ट ऑफिस द्वारा पाएं 16 लाख रुपए तक का लाभ जानिए पूरी योजना

न्यूनतम समय में ग्रेच्युटी (Gratuity in minimum time)

Gratuity time: सरकार द्वारा लोकसभा में पारित बिल के अनुसार अब ग्रेच्युटी से जुड़ी नियमों में बदलाव किए गए हैं। इन नए नियमों के अनुसार अब किसी भी कर्मचारियों को यह लाभ पाने के लिए 5 साल तक नौकरी करना अनिवार्य नहीं है। यदि वह 1 साल की नौकरी भी करता है तो उसे ग्रेच्युटी का लाभ दिया जाएगा। बिल में कर्मचारियों के अधिकारों की सुरक्षा का हवाला देते हुए। इन नए नियमों को रखा गया है। इस सुविधा का लाभ संविदा कर्मचारियों के अलावा सीजनल टस्टेब्लिशमेंट में काम करने वाले कर्मचारियों को दिया जाएगा।

Employee Pension Scheme 2022 : Good News! जल्द खाते में आएंगे 81000 तक रुपए, पुरी गणित ऐसे समझें !

ग्रेच्युटी एक्ट 2020 (Gratuity Act 2020)

Gratuity New Rules: सरकार द्वारा पारित किए गए ग्रेच्युटी एक्ट 2020 में नए नियम बनाए गए हैं। जैन के अनुसार इसका लाभ एकदम कर्मचारियों को दिया जाएगा। वही दूसरे कर्मचारियों के लिए पुराने नियम ही लागू होंगे। जिसमें 5 साल की नौकरी पूरी होने पर ही हर साल 15 दिन के वेतन के आधार पर वे जुटी दी जाती है। इसकी अधिकतम सीमा 2000000 रुपए होती है।