Monkey Pox in India : 42 वर्ष से कम उम्र के लोगों में बढ़ा मंकी पॉक्स का खतरा, दिल्ली में मिला पहला केस

Monkey Pox in India : विगत लंबे समय से देश में कोरोना (Corona) के संक्रमण ने लोगों का पीछा छोड़ा ही नहीं है कि अब एक और मुसीबत सामने आ गई है। इस मुसीबत को मंकी पॉक्स (Monkey Pox) कहते हैं। मंकी पॉक्स एक खतरनाक संक्रमण है जो कि अब भारत (India) देश में भी तेजी से फैल रहा है। आपको बेहद सावधान रहने की जरूरत है।

मंकी पॉक्स ने दिल्ली में दी दस्तक

एक समस्या आम तौर पर देखने को मिलती है कि कोई भी खतरा ज्यादातर राजधानी दिल्ली में ही अटैक करती है। कहने का तात्पर्य ये है कि जहां एक तरफ दिल्ली में प्रदूषण अधिक है तो वहीं आम तौर पर कोई भी संक्रमण या बिमारी दिल्ली में तेजी से शुरू होती है। इसी प्रकार मंकी पॉक्स ने भी दिल्ली में दस्तक दे दी है। इसलिए काफी सावधान रहना होगा।

Corona : दिल्ली में घटते कोरोना केस को देखते हुए CM केजरीवाल ने दिए राहत भरे संकेत

Monkey Pox in India

पूरे देश में हैं मंकी पॉक्स के 4 मामले

राजधानी दिल्ली में मंकी पॉक्स जैसे खतरनाक संक्रमण का पहला मामला सामने आ चुका है। इस केस को मिलाकर पूरे देश में अभी तक मंकी पॉक्स के कुल 4 मामले सामने आ चुके हैं। भले ही अभी तक इन आंकड़ों की संख्या 4 ही है लेकिन कोरोना की शुरूआत भी देश में ऐसे ही हुई थी। पहले संख्या बेहद कम थी लेकिन आज आंकड़ों का कोई सटीक इल्म ही नहीं है।

Corona : ओमिक्रॉन का नया लक्षण शरीर के इस हिस्से पर कर रहा अटैक

इसका सीधा मतलब ये है कि किसी भी संक्रमण को इतने हल्के में लेने की जरूरत नहीं है। ये कभी भी एक सैलाब का रूप ले सकता है। इसलिए बेहद सावधान रहें तथा लक्षण दिखाई पड़ने पर तुरंत डॉक्टर की सलाह लें। अब आप ये सोच रहे होंगे कि आपको ये कैसे पता चलेगा कि आपको मंकी पॉक्स के संक्रमण ने अपनी चपेट में ले लिया है।

लक्षण

बताते चलें कि मंकी पॉक्स के लक्षणों की पहचान बहुत आसानी से हो जाएगी। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार यदि किसी व्यक्ति की त्वचा पर फफोले, सिर दर्द, मांसपेशियों में दर्द, गले में खराश, थकान जैसे लक्षण दिखाई देने पर आप तुरंत डॉक्टर से सलाह लें। चिकित्सकों का मानना है कि जिन लोगों का जन्म वर्ष 1980 के बाद हुआ है उनको इसका खतरा ज्यादा है।

इस उम्र के लोगों पर है ज्यादा खतरा

सीधे तौर पर कहें तो 42 वर्ष से कम उम्र के लोगों पर मंकी पॉक्स का खतरा बहुत ज्यादा है। बताते चलें कि आप लोगों ने मंकी पॉक्स का नाम अब सुना है लेकिन ये संक्रमण 6 दशक पुराना है। मिली जानकारी के मुताबिक वर्ष 1958 में डेनमार्क की राजधानी कोपेनहेगन में मंकी पॉक्स का पहला मामला सामने आया था।

Leave a Comment