Old Pension Scheme: प्रदेश में पुरानी पेंशन योजना लागू! लाखों कर्मचारियों को मिला बड़ा लाभ! समझिये NPS और OPS के बीच का अंतर!

Old Pension Scheme 2023: राजस्थान, छत्तीसगढ़, झारखंड और पंजाब के बाद अब हिमाचल प्रदेश में भी राज्य सरकार की मदद से पुरानी पेंशन योजना लागू की गई है।चुनावी वादे के मुताबिक हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री सुखविंदर सिंह सुक्खू ने शुक्रवार को कैबिनेट की पहली बैठक में इसे मंजूरी दे दी।जल्द ही वित्त विभाग की मदद से इसकी अधिसूचना जारी की जा सकती है और कर्मियों को इसका लाभ मिलना शुरू हो जाएगा।

Old Pension Scheme

Old pension scheme: राज्य कर्मचारियों के लिए गुड न्यूज! मुख्यमंत्री का बड़ा बयान! राज्य में जल्द लागू होंगी पुरानी पेंशन योजना।

1 लाख 36 हजार कर्मचारियों को मिला लाभ

खास बात यह है कि राज्य के 1.36 लाख सरकारी कर्मियों को इसका लाभ मिलता है।यह साल 2003 से दिया जा सकता है।इसका बकाया संसाधनों के प्रावधान के अनुसार महीनों, 4 महीनों या 12 महीनों के बाद हो सकता है।

1 अप्रैल 2004 से तत्कालीन एनडीए सरकार द्वारा इस योजना को बंद कर दिया गया।नई पेंशन नीति (NPS) के तहत एक जनवरी 2004 से सरकारी सेवा में शामिल होने वाले कर्मचारियों को शामिल किया गया है।बता दें कि हिमाचल प्रदेश में सरकारी कर्मियों की संख्या 2.75 लाख निर्धारित है, जिसमें से लगभग 1.5 लाख कर्मचारी नई पेंशन योजना के तहत आते हैं।

Old Pension Yojana: केंद्र सरकार राज्यों को नहीं देगी एनपीएस का पैसा, अब सुप्रीम कोर्ट जाएगा केस।

समझिये NPS और OPS के बीच का अंतर

ओपीएस में सरकारी कर्मचारी की सेवानिवृत्ति के बाद सरकार के खजाने से अंतिम प्राथमिक लाभ और महंगाई भत्ते का आधा हिस्सा पेंशन के रूप में दिया जाता है।ओपीएस में महंगाई भत्ता भी साल में दो बार बढ़ाया जाता है, पेंशनभोगी के सरकारी कर्मचारी की मृत्यु होने पर उसके परिवार की पेंशन भी ओपीएस में सुरक्षित रहती है।

Old Pension scheme: जल्द लागू होगी ओल्ड पैंशन योजना, केंद्र सरकार ने लोकसभा में दिया गया बड़ा अपडेट।

एनपीएस एक अंशदायी योजना है

NPS Scheme: NPS में कर्मियों को अपने लाभ में 10 फीसदी का योगदान देना होता है।कर्मचारी के एनपीएस खाते में सरकार 14 फीसदी का योगदान देती है।पेंशन आयोग लागू होने पर सेवानिवृत्त कर्मियों को भी पेंशन पुनरीक्षण का लाभ मिलता है।

ओपीएस में, प्राथमिक पेंशन को 20 प्रतिशत तक बढ़ाया जाता है, जबकि पेंशनभोगी 80 वर्ष का हो जाता है, परिणामस्वरूप पेंशनभोगी को 85 वर्ष की आयु पर 30 प्रतिशत, 90 वर्ष की आयु पर 40 प्रतिशत, 50 प्रतिशत प्राप्त होता है।95 की उम्र पर प्रतिशत के साथ रेखा और प्रतिशत के साथ 100-100 आयु प्राप्त करने पर 100 प्रतिशत से बढ़ जाती है। पेंशन की मात्रा दोगुनी हो जाती है जबकि पेंशनभोगी 100 वर्ष की आयु तक पहुँच जाता है।

Old Pension Scheme Update 2022 : खुशखबरी ! नए साल में कर्मचारियों को मिलने जा रहा है पुरानी पेंशन स्कीम का जबरदस्त लाभ !

नई पेंशन योजना

New Pension Scheme: नई पेंशन योजना के तहत सरकारी कर्मचारी को मूल लाभ का 10 प्रतिशत अपनी पेंशन में देना होता है और देश की सरकार केवल 14 प्रतिशत का योगदान करती है।नई पेंशन योजना के तहत सेवानिवृत्ति पर पेंशन पाने के लिए एनपीएस फंड का 40 फीसदी निवेश करना होगा।सेवानिवृत्ति के बाद निश्चित पेंशन हमेशा सुनिश्चित नहीं होती है।एनपीएस पूरी तरह से शेयर बाजार पर आधारित है।इसमें अब महंगाई भत्ते की उपलब्धता शामिल नहीं है।

NPS: एनपीएस में, सेवा की अवधि के लिए जीवन की मृत्यु के मामले में कर्मचारी के स्वयं के रिश्तेदारों के सर्कल को पेंशन के रूप में पूर्ण लाभ का 50 प्रतिशत देने का प्रावधान हो सकता है।ओपीएस में कर्मचारियों को रिटायरमेंट के बाद 20 लाख रुपये तक की ग्रेच्युटी मिलती है।एनपीएस में सेवानिवृत्ति के समय ग्रेच्युटी का कोई स्थायी प्रावधान नहीं है।ओपीएस में कर्मचारी के सेवानिवृत्त होने पर उसे अब जीपीएफ के नाम पर किसी प्रकार का आयकर नहीं देना होगा।ओपीएस के विपरीत नई पेंशन योजना में शेयर बाजार के हिसाब से रिटायरमेंट पर आपको जो भी पैसा मिलता है, उस पर आपको टैक्स देना होता है।महंगाई भत्ता (DA) के लिए 6 महीने के बाद प्रासंगिक है।