PF Account: अब पीएफ अकाउंट्स पर है साइबर अपराधियों की नजर, फ्रॉड से बचने के लिए इन बातों का रखें ध्यान।

PF Balance: प्रोविडेंट फंड यानी पीएफ सब्सक्राइबर्स के लिए जरूरी जानकारी है।कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) ने ऑनलाइन फ्रॉड के खतरे को लेकर अपने सब्सक्राइबर्स को आगाह किया है।

EPFO ने सब्सक्राइबर्स से क्या कहा ?

EPFO:ट्विटर पर एक पोस्ट में ईपीएफओ ने अपने सदस्यों को चेतावनी दी है कि अब यूएएन, पासवर्ड, पैन या आधार जैसे किसी भी संवेदनशील आंकड़े को किसी के साथ साझा न करें।इसमें कहा गया है कि ईपीएफओ सब्सक्राइबर्स अब उन सूचनाओं को किसी भी पुरुष या महिला के साथ फोन या सोशल मीडिया पर शेयर नहीं करना चाहिए, हालांकि दूसरा बर्थडे पार्टी ईपीएफओ के प्रतिनिधि होने का दावा करती है।

EPFO: अब मिनटों में डिजिलॉकर से डाउनलोड करें UAN और PPO, जानिए प्रोसेस।

7th CPC Budget 2023 : वित्त मंत्री ने किया जबरदस्त ऐलान ! नए साल में बढ़ेगी पेंशन और मिलेगा मैटरनिटी का लाभ, पढ़िए खबर !

आर्थिक जानकारी किसी के साथ साझा न करें

ईपीएफओ ने कहा कि यूएन, पासवर्ड, पैन, आधार, बैंक खाते की जानकारी, ओटीपी या अन्य कोई भी निजी या आर्थिक जानकारी किसी के साथ साझा न करें।उन्होंने यह भी घोषणा की कि वह कभी भी अपने ग्राहकों से आधार कार्ड नंबर, पैन, यूएन, बैंक खाता या ओटीपी जैसी गैर-सार्वजनिक जानकारी को फोन या सोशल मीडिया पर साझा करने के लिए नहीं कहते हैं।उन्होंने कहा कि ईपीएफओ या उसके कर्मी कभी भी मैसेज, कॉल, ईमेल, व्हाट्सएप या सोशल मीडिया पर ऐसी जानकारी नहीं मांगते हैं।

7th Pay Commission: नए साल में केंद्रीय कर्मचारियों को मिलेगा ट्रिपल बोनांजा, जानें क्या-क्या मिलेगा ?

EPFO: UAN से जुड़ा हुआ अकाउंट हो गया है बंद, तो घर बैठे ऐसे करें चेंज, जानें प्रॉसेस.

क्या हुआ सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) ने नवंबर में सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिए गए एक आदेश के बाद कुछ पेंशनभोगियों को अतिरिक्त पेंशन पाने का रास्ता साफ कर दिया है।हालांकि, 31 अगस्त, 2014 तक सेवानिवृत्त हुए पेंशनभोगियों को अब इसका लाभ नहीं मिलेगा, यहां तक ​​कि 1 सितंबर, 2014 को या उसके बाद ईपीएस योजना में शामिल होने वाले लोगों के पास बेहतर पेंशन पाने का विकल्प हो सकता है।इसके लिए भी ईपीएफओ ने पात्रता और प्रक्रिया से जुड़ी नीतियां जारी की हैं।

ईपीएफओ के मौजूदा सुझावों के मुताबिक, कर्मियों को अब ईपीएस में अपनी वास्तविक आय में 8.33 प्रतिशत के समान राशि जमा करने का खतरा होगा।इसकी अधिकतम सीमा प्रति माह 15,000 रुपये हो सकती है।ईपीएफओ ने एक नई विंडो खोली है।यह ऐसे कर्मियों के लिए है, जिन्होंने अपने रोजगार के समय ईपीएस का सदस्य होते हुए भी 5000 रुपये या 6500 रुपये की आय सीमा से अधिक पर पेंशन के लिए योगदान दिया है।