UGC Issues Guidelines : आ गया नोटिस! Ph.D के छात्रों को अफवाहों से बचाने के लिए यूजीसी ने जारी किया अर्जेंट नोटिस, पढ़िए ख़बर !

UGC Issues Guidelines :- फाइनली आ गया यूजीसी का ऑफिशियल नोटिस ! जिसके तहत अगर आप किसी विदेशी शैक्षणिक संस्थानों के सहयोग से ऐड कंपनियों द्वारा पेश किए गए ऑनलाइन पीएचडी कार्यक्रमों का हिस्सा बनने का मन बना चुके हैं। तो जालसाजो से सावधान ! अगली स्लाइड को ध्यान से पढ़ें!

UGC Issues Guidelines

UGC Issues Guidelines
UGC Issues Guidelines

UGC notice regarding admission :- कुछ दिनों पहले विश्वविद्यालय अनुदान आयोग अर्थात यूजीसी ने छात्रों के लिए नोटिफिकेशन जारी कर अपनी बात कही ! जिसके तहत छात्र किसी भी विदेशी शैक्षणिक संस्थान के सहयोग से एडुटेक कंपनियों द्वारा ऑनलाइन कार्यक्रमों के विज्ञापनों के झांसे में ना आए।ये ऑनलाइन कार्यक्रम यूजीसी द्वारा मान्यता प्राप्त नहीं हैं.यूजीसी ने यह क्लेरिफाई किया कि आयोग के पास पहले से ही छात्रों को पीएच.डी डिग्री प्रदान करने की अपनी प्रक्रिया है. पीएचडी डिग्री यूजीसी विनियम, 2016 के मुताबिक दी की जाती है.अभी पढ़े :- UGC NET : इस दिन भरा जा सकता है UGC NET परीक्षा का फॉर्म, ऐसे करें आवेदन

Note :- विश्व अनुदान आयोग के नोटिस के अनुसार, पीएचडी डिग्री प्रदान करने के लिए यूजीसी के नियमों का सभी भारतीय उच्च शिक्षण संस्थानों (एचईआई) को पालन करना अनिवार्य है.

अब डिस्टेंस और ऑनलाइन मोड से Ph.D करना हुआ बैन !

[email protected] :- अपने नोटिफिकेशन में यूजीसी(United Grant Commission) ने क्लीयरली बताया है कि अब ओपन और डिस्टेंस लर्निंग और ऑनलाइन मोड के माध्यम से सभी विषयों में एम.फिल और पीएचडी कार्यक्रम भी बैन हैं. उच्च शिक्षा नियामक ने कहा कि ऐसे ऑनलाइन पीएचडी कार्यक्रमों को यूजीसी द्वारा मान्यता प्राप्त नहीं है.

इससे पहले, यूजीसी ने उन कार्यक्रमों की एक सूची जारी की थी, जिन्हें ओपन एंड डिस्टेंस लर्निंग(ODL) और ऑनलाइन मोड के तहत पेश करने की मनाही है.यह जानकारी यूजीसी ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर साझा की !अभी पढ़े :- Recruitment Ramanujan College 2022 :Apply online for Non Teaching post 14

क्या लिखा यूजीसी ने अपने ट्वीट में ?

यूजीसी ने ट्वीट में साफ लिखा है कि, “यूजीसी छात्रों और जनता को सलाह देता है कि वे विदेशी शैक्षिक संस्थानों के सहयोग से एडुटेक कंपनियों द्वारा पेश किए गए ऑनलाइन पीएचडी कार्यक्रमों के विज्ञापनों से गुमराह न हों.”अभी पढ़े :- CSIR UGC NET E-Certificate : NTA ने CSIR UGC NET जून 2021 ई-सर्टिफिकेट किया जारी

अब यूजीसी द्वारा पीएचडी डिग्री एक्ट 2016 का पालन अनिवार्य बनाया गया !

UGC AICTE Warns against Online Ph.D Programmes :– विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) ने पीएचडी डिग्री प्रदान करने के मानकों को बनाए रखने के लिए यूजीसी एमफिल, पीएचडी डिग्री के अवॉर्ड के लिए न्यूनतम मानक और प्रक्रिया विनियमन 2016 को मानक बनाया है।

सभी उच्च शिक्षण संस्थानों (HEI) के लिए यह अनिवार्य है कि वे यूजीसी और AICTI द्वारा जारी एक संयुक्त आदेश के अनुसार, पीएचडी डिग्री प्रदान करने के लिए यूजीसी के नियमों और इसके संशोधनों का कड़ाई से पालन करना अनिवार्य बना दिया गया हैं।

आदेशानुसार ऐसे ऑनलाइन पीएचडी कार्यक्रमों को यूजीसी द्वारा मान्यता प्राप्त नहीं है। इच्छुक छात्रों और आम जनता से अनुरोध है कि प्रवेश लेने से पहले यूजीसी विनियमन 2016 के अनुसार पीएचडी कार्यक्रमों की प्रामाणिकता को सत्यापित करें। अभी पढ़े :- CUET 2022 Update : इस दिन तक बढ़ा दी गई CUET के लिए आवेदन करने की अंतिम तिथि, देखें डिटेल

Conclusion :- आशा करते है दोस्तो कि UGC Issues Guidelines इस विषय पर हमारे द्वारा दी गई जानकारी आपको काफी अहम लगी होगी। ऐसे ही नवीन खबरों को लागतार पढ़ने के लिए हमारे ब्लॉग को अपने फ्रेंड,फैमिली और सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करे। और अगर आपके पास इस विषय से संबंधित कोई प्रश्न हो, तो आप हमे कमेंट कर सकते है. धन्यवाद !