UP में CM योगी नए साल पर दे रहे इन महिलाओं को बड़ा तोहफा, पेंशन होगी डबल

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Chief Minister Yogi Adityanath) ने गुरुवार को महत्वपूर्ण विधानसभा चुनावों (assembly elections) से पहले नवीनतम चुनावी रणनीति में निराश्रित महिलाओं, वृद्ध और विकलांग लोगों के लिए एक बड़ी राहत की घोषणा की और उनकी पेंशन राशि (pension amount) को दोगुना कर दिया.

राज्य विधानसभा में बोलते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उनकी सरकार अब निराश्रित महिलाओं, वृद्ध और विकलांग लोगों को हर महीने 500 रुपये के बजाय 1,000 रुपये पेंशन प्रदान करेगी, जो पहले दिया गया था. इसके साथ मजदूरों को अब अगले चार महीनों के लिए 500 रुपये मासिक का भत्ता मिलेगा और कुष्ठ प्रभावित लोगों के लिए पेंशन 3,000 रुपये प्रति माह होगी.

योगी आदित्यनाथ ने अखिलेश यादव पर कसा तंज

योगी आदित्यनाथ ने समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव पर तंज कसते हुए कहा, “हमारी सरकार बुजुर्गों को सम्मान देती है और अगर पिता बूढ़ा हो जाता है, तो उसे पद से नहीं हटाया जाता है.” वह उस कड़वे झगड़े का जिक्र कर रहे थे, जिसके कारण अखिलेश यादव ने 2017 में अपने पिता मुलायम सिंह यादव से पार्टी अध्यक्ष का पद छीन लिया था.

यहां घोषित लाभ हैं:

  • विधवा महिलाओं को पहले 300 का मानदेय मिलता था, जिसे पहले योगी आदित्यनाथ सरकार के सत्ता में आने पर बढ़ाकर 500 कर दिया गया था. उन्होंने कहा कि अब 1,000 की पेंशन 30.34 लाख निराश्रित महिलाओं को दी जाएगी.
  • वृद्धावस्था पेंशन को 500 रुपये से बढ़ाकर 1,000 रुपये करने की घोषणा करते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि पहले कई परिवार इस योजना के दायरे में नहीं आते थे. उन्होंने कहा, “2017 से पहले लगभग 37 लाख लोग इस योजना से लाभान्वित हो रहे थे और अब यह संख्या बढ़कर 55.77 लाख हो गई है.”
  • आठ लाख विकलांग लोगों के लिए पेंशन 500 से बढ़ाकर 1,000 कर दी गई है. मजदूरों को अगले चार महीनों के लिए 500 मासिक का भरण-पोषण भत्ता दिया जाएगा.
  • आंगनवाड़ी और आशा कार्यकर्ताओं के मानदेय में भी वृद्धि की जाएगी, मुख्यमंत्री ने घोषणा की और COVID-19 महामारी के समय एक सराहनीय कार्य के लिए आशा कार्यकर्ताओं की सराहना की.
  • कुष्ठ प्रभावित लोगों के लिए पेंशन बढ़ाने का निर्णय लिया गया है और उन्हें 3,000 भत्ता दिया जाएगा, उनके परिवारों को प्रधान मंत्री या मुख्यमंत्री आवास योजना के माध्यम से आवास प्रदान किया जाएगा.
  • सरकार ने यह भी निर्णय लिया कि आयुष्मान भारत योजना के तहत महिलाओं के असाध्य रोगों के इलाज के लिए राशि खर्च करने के बाद महिलाओं को 5 लाख रुपये की अतिरिक्त राशि दी जाएगी.